Views:16730

अगर आप गर्भवती है और किसी बच्चे को नया जीवन देने वाली है तो आपको अपनी लाइफस्टाइल के साथ अपनी फूड् लिस्ट का भी खास ध्यान रखना चाहिए क्योकि अगर आप खाने पीने में लापरवाही करती है तो आप बीमार हो सकती है जिसका नुकसान गर्भ में पल रहे बच्चे को भी उठाना पड़ सकता है। आप जो भी भोजन ग्रहण करें वह ताजा और पूरी तरह पकाया हुआ हो इसके अलावा आपको अतिरिक्त ध्यान के लिए उन खाद्य पदार्थ को भी सुनिश्चित करना होगा जिसका सेवन आप गर्भावस्था के दौरान नही करना चाहिए या कम करना चाहिए।





कैफीन : गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को अधिकतर घर में रहना पड़ता है जिसकी वजह से सुस्ती और कामकाजी महिलाओं को घर में बोरियत का अहसास होता है और ऐसे में कॉफी, चाय, कोला या ऊर्जा वाली बजारी पेय अपनी डाइट में सामान्य से अधिक बढ़ा देती है जिससे गर्भपात का खतरा और अन्य स्वास्थ्य नुक्सान का सामना करना पड़ सकता है इसके अलावा गर्भ के पहली तिमाही के दौरान कैफीन का अधिक सेवन हरगिज नही करना चाहिए।





सॉफ्ट पनीर : कई बार गर्भवती महिलाओं की प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो जाती है और ऐसे में खाद्य जनित बीमारियों से ग्रस्त होना काफी आसान हो जाता है इसलिए सॉफ्ट पनीर का सेवन से परहेज करना चाहिए और अगर खाना पड़ भी जाए तो इसे अच्छी तरह पका कर ही खाना चाहिए। सॉफ्ट पनीर के अलावा नीले पनीर और बजारी पुराने पनीर में कई हानिकारक बैक्टीरियां उत्पन्न हो जाते है इसलिए सफेद छिलके के साथ पनीर अर्थात सॉफ्ट पनीर का प्रयोग पूर्ण सावधानी से करना चाहिये और एतिहत के तौर पर अगर पहले तिमाही इसका सेवन ना किया जाए तो ज्यादा अच्छा है।





मांस मछली अंडे : मांस मछली अंडे से बेशक प्रोटीन और विटामिन के महत्वपूर्ण हो और इन भोज्य पदार्थो को बेशक अनगिनत फायदे हो लेकिन गर्भवती होने पर इनकी कटौती करना ही बेहतर है। मछली का सेवन गर्भ में पल रहे बच्चे के दिमाग में बाधा पैदा कर सकता है क्योकि कुछ मछलियों में मरक्युरी होती है इसके अलावा अंडे सलमोनेल्ला बैकटीरिया से ग्रस्त होते है जो शरीर में कई बिमारियों का कारण बनते है। मांस वैसे भी अधिक गर्म भोजन होता है और पहले तिमाही पर इसका सेवन करने से गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है। इसके अलावा अगर आप मार्किट में बने मांस या मछली का प्रयोग करती है तो संक्रमण और स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा अधिक बढ़ जाता है।





शराब और सिगरेट छोड़ दे : शराब और सिगरेट का सेवन हर लिहाज से बुरा है लेकिन आज की भागदौड लाइफ में यह महिलाओं की लाइफस्टाइल में शामिल है लेकिन गर्भावस्था में इनका अधिक प्रयोग भ्रूण में पल रहे बच्चे को मानसिक तौर पर विकलांग,शारीरिक असामान्यताएं और उसके विकास तंत्र को प्रभावित कर सकता है।



जो महिलाएं गर्भवत के समय में शराब और सिगरेट पीती है उनके व्यवहार समस्याओं में भी असमानता आ जाती है इसलिए कुछ देशों में गर्भवती महिला के शराब और सिगरेट पर प्रतिबंध लगायें गये है।






अपने थाली से गायब करें इन खाद्य पदार्थों को : जो महिलाएं प्रेगनेंसी के दौरान मिसकैरेज का सामना कर चुकी है महिलाओं को अपने खाने की थाली से बैंगन, मिर्ची, प्याज, लहसुन, हिंग, बाजरा, गुड़ जैसे खाद्य पदार्थो को गायब कर देना चाहिए या बहुत ही कम प्रयोग में लाना चाहिए।



इन खाद्य पदार्थो के अलावा फलों में पपीते ,अंगूर,अनानस जैसे फलों का सेवन बड़ी सावधानी से करना चाहिए क्योकि इन फलों के कच्चे होने पर हानि पंहुचा सकते थे।



प्रेगनेंसी में खान-पान का ध्यान रखते हुए मसालेदार भोजन और मैदे से बने भोजन से परहेज ही गर्भावस्था स्वास्थ्य के लिए बेहतर है।



प्रेगनेंसी के समय जो भी खाएं वह साफ़ सुधरा और पूर्ण रूप से पका हुआ हो, भोजन में जायफल और अधिक शक्कर की मात्रा वाले भोजन को भी अपनी दिनचर्या डाइट में सुझबुझ के साथ ही करें।



और पढ़े:- मिसकैरेज अर्थात गर्भपात होने के प्रमुख कारणों की लिस्ट



प्रारंभिक लक्षण जिससे पता चलता है आप गर्भवती है



आपको जल्दी प्रेगनेंट करेंगी यह सेक्स पोजीसन



गर्भावस्था में किये व्यायाम का लाभ बेबी बॉयज को अधिक प्राप्त होता है



बच्चे के जन्म से जुड़े मिथकों का भंडाफोड़

Pregnancy!#Women!#Women Health

Comment Box

    User Opinion
    Your Name :
    E-mail :
    Comment :

Most Popular Facts

Most Popular Health Post

Most Popular Relationship Articles

Category

अनुष्का शर्मा से जुड़े सौंदर्य और स्वास्थ्य


अस्थमा


आँखों की देखभाल


आयुर्वेदिक होम टिप्स


आलिया भट्ट का डाइट प्लान


एनीमिया


एलर्जी


औरत के लिये


कद बढाने के टिप्स


किशोर


कैंसर


कैटरीना कैफ से जुड़े सौंदर्य और स्वास्थ्य टिप्स


कोल्ड


क्रॉस लेग पोजीसन में बैठना


गर्दन


गर्भपात


गर्भावस्था


गर्मियों में त्वचा की देखभाल


गर्मी


घुटनों के टिप्स


झाइयां


झुर्रियाँ


डायबिटीज


डिप्रेशन


डेंगू


तनाव


त्यौहार


त्वचा


त्वचा की देखभाल


दाँतों की देखभाल


दिमाग की याददाश्त और शक्ति को बढाने के टिप्स


दिल की बीमारी


दुल्हन


नींबू पानी फायदे


पसीने की दुर्गन्ध से छुटकारा पाने के टिप्स


पालन पोषण


पिंपल


पीरियड


पुरुषों के स्वास्थ्य के टिप्स


पेनिस


पेशेंट की कहानियां


पैरों की देखभाल


फलो के लाभ


फिट रहने के उपाय


बच्चे


बच्चों की देखभाल के टिप्स


बट का आकर बढ़ाने वाले टिप्स


बट मुँहासे के लिए टिप्स


बालों की देखभाल


बीज


बेबी


ब्रेस्ट


ब्रेस्ट हेल्थ टिप्स


महिला स्वास्थ्य के टिप्स


महीना वाइज टिप्स


मानसिक विकार


मुँहासे


मुहांसों से बचाव


मूत्र रंग


मेकअप


योग


वजन घटाने के टिप्स


वजन बढ़ाने के टिप्स


व्यायाम और योगा


सुंदरता से संबंधित टिप्स


सेक्स


सेक्स संबंधित समस्या


सेक्सी पीठ


सेलिब्रिटी हेल्थ टिप्स


सेल्युलाईट से छुटकारा पाने के लिए घरेलू उपचार


स्वाइन फ्लू


स्वाभाविक रूप से टिप्स


स्वास्थ्य और कल्याण


स्वास्थ्य संबंधित टिप्स


स्वास्थ्य A से Z


हरी चाय


होठों की देखभाल के टिप्स


होली


अदिति राव हैदरी से जुड़े सौंदर्य और स्वास्थ्य टिप्स


आलू


कमजोरी


कोल्ड फ्लू


गर्भवती हेल्थ


ग्लो त्वचा


घरेलू नुस्खे


घरेलू फेस पैक


जैकलिन फर्नांडीज फिटनेस सीक्रेट


टखने की चोट से जल्द ठीक करने के उपाय


डेंगू बुखार


ड्रिंक


त्रिकोणासन


दिशा पटानी के ब्यूटी टिप्स


नाखून


नींद


पपीते के पत्ते के फायदे


पानी


पीठ दर्द


प्रेगनेंसी डाइट


फर्टिलिटी


फर्टिलिटी संबंधी समस्या


बांझपन स्वास्थ्य समस्या


बालों का झड़ना


ब्रेकफास्ट


ब्लड शुगर


मेटाबोलिज्म


वजाइना को हेल्थी रखने के टिप्स


विटामिन


विटामिन ई


विटामिन ए


विटामिन के


विटामिन डी


विटामिन बी


विटामिन सी


शुगर


सांसों की बदबू को रोकने के लिए उपाय


साइनसाइटिस


स्ट्रेच मार्क्स


हस्तमैथुन


हाथों की देखभाल के टिप्स


Back to Top