मानसून के मौसम में पैरों को स्वच्छ और सुंदर बनाएं रखने के सुपर टिप्स


Views:8040

मानसून का मौसम दिल में प्यार,रोमांस और आनन्द को जन्म देने वाला मौसम है और इस बरसात के मौसम का आनंद लेने के लिए हमे बाहर निकलना पड़ता है। दिल में उमड़ रही भावनाओं को पूरा करने  के लिए हम पानी से भरी सडकों,कीचड़ और कई दिनों से जमा गंदे पानी की अनदेखी नही कर सकते है। इस रोमांटिक मौसम में स्वस्थ त्वचा और पैर से संबंधित समस्याओं का समाना भी आपको अधिक करना पड़ता है।

मानसून के दौरान बदबूदार और गंदे पैर अकसर देखे जा सकते हैं इसलिए इस विशेष मौसम में पैरों को अधिकतम देखभाल की जरूरत पड़ती है। इस मानसून के मौसम के दौरान पैरों की अधिकतम देखभाल मांग को देखते हुए हम आपके पैरों का ख्याल रखने के लिए कुछ सुपर सुझाव लेकर आये है।

 

सही जूते चुने : बरसात के मौसम में सामने से बंद जूते,सैंडल पहनने से बचें। मानसून के मौसम में फैशन के बजाय आराम के अनुसार जूते का ही चुनाव करना बेहतर रहेगा। आप इस मौसम में अपने लिए फ्लोटर्स फ्लिप-फ्लॉप,प्लास्टिक या रबर सैंडल पैरों के अनुकूल होते है। यह अपने पैरों को सूखा रखने में मदद करते है और चिकनी सड़कों पर गिरने से बचाते है। पैरों में उचित जूते होने से फंगल संक्रमण का खतरा कम हो जाता है। बारिश के मौसम में ऊँची एड़ी के जूते से जहाँ तक संभव हो परहेज ही रखें।

घाव को खुला ना रखें : सबसे पहले यह सुनिश्चित कर ले कि आपके सुदंर पैरों में कोई घाव ना हो लेकिन अगर घाव है तो मानसून में आपको अतिरिक्त सावधानी बरतनी चाहिए। पानी और कीचड़ में मौजूद बैक्टीरिया पैरों के घाव को प्रभावित कर सकते है इसलिए पैरों के घाव को हमेशा बैंडड से ढक कर रखें।

एंटीफंगल पाउडर शामिल करें : मानसून में पैरों को सूखा रखने के लिए और जीवाणुओं के विकास को रोकने के लिए आपको पैरों की उंगलियों के बीच एंटीफंगल पाउडर का प्रयोग करना सही रहेगा। आप ऊँची एड़ी के जूते के आसपास भी एंटीफंगल पाउडर उपयोग बेजिझक कर सकती है। इसके अलावा पैरों पर ऐसी क्रीम लगाने से भी बचना चाहिए जो नमी पैदा करती हो।

पेडीक्योर के लिए पार्लर ना जाएं : अगर आपको विवाह जैसी कोई अन्य मजबूरी ना हो तो मानसून के दौरान पेडीक्योर या स्पा से बचना ही बेहतर रहेगा। पेडीक्योर इत्यादि में पैरों का सम्पर्क अधिक देर तक नमी से रहता है जिस कारण संक्रमण होने का खतरा बना रहता है लेकिन अगर आपको मानसून में पेडीक्योर की जरूरत पड़ भी जाए तो आप यह सुनिश्चित जरुर कर लें कि पेडीक्योर के दौरान प्रयोग होने वाले यंत्र ठीक से साफ और काम करते हो।

पैरों पर होममेड पैक का प्रयोग करें : जितना महत्व आप चेहरे पर फेसपैक को देती है उतना ही महत्व आपको पैरों के लिए पैक पर देना चाहिए। पैरों की अच्छी देखभाल के लिए आप घर पर ही पैक बना कर सकती है।

मुलतानी मिट्टी, जैतून या लैवेंडर का तेल और एंटी-बैक्टीरियल गुणों से भरपूर एक चुटकी हल्दी तथा साथ में सूखे नीम पाउडर को शामिल कर ले और बाद में इन सब को गर्म पानी में मिक्स कर इस पैक को अपने पैरों पर लगा लें और सूखने के बाद इस पैक को हल्के गुनगुने पानी से साफ़ कर लें। यह पैक पैरों को मुलायम बनाने के आपके सपने को पूर्ण करने में मदद देगा। इस पैक को आप सप्ताह में दो बार लगा सकती है।

नाखूनों को साफ रखें: लंबे नाखून सुंदर लग सकते है पर मानसून के दिनों में नाखूनों को लंबा रखने से बचें क्योकि यह अधिक गंदगी और बैक्टीरिया को आकर्षित करते है इसलिए इस विशेष मौसम में आप नाखूनों को साफ और छोटे रखने की कोशिश करें।

मानसून के मौसम के दौरान पैरों को विशेष रूप से केयर की जरूरत होती है इसलिए उपरोक्त सुझावों का पालन कर पैरों को स्वच्छ, सुंदर और संक्रमण से मुक्त रखने में काफी मदद मिलेगी। आप शरीर का वजन और तनाव को नियंत्रित कर इस काम को आसान बना सकती है।


Comment Box