कैंसर की प्रारंभिक चेतावनी देने वाले प्रमुख संकेतों की जानकारी

Views:24240

एक पुराने अकाड़े के अनुसार कैंसर एक साल में 584,881 लोगो को मौत के घाट उतार चुका है। कैंसर आम तौर पर त्वचा और फेफड़े में बरीकी रूप से फैलता है । कैंसर मृत्यु की गोद तक ले जाती है लेकिन कैंसर होने पर मौत की ही सजा मिले यह जरूरी नही है । आज के विज्ञानिक युग में कैंसर सफलतापूर्वक इलाज होना संभव है और ज्यादातर लोग इस बीमारी पर विजय भी पा लेते है। इस घातक बिमारी के साथ जो सबसे बड़ी समस्या है वह यह है कि कैंसर का जल्द से जल्द पता लगाकर इसका इलाज शुरू किया जा सकें। आज हम इस पेज पर कैंसर से जुड़े संकेतों के बारें में जानकारी देंगे जिसके देखते ही आपको फौरन डॉक्टर से बात करनी चाहिए।



देखने में असामान्यताएं : डबल दृष्टि या अचानक दूरदृष्टि, अस्थायी अंधापन यह सभी खतरनाक संकेत है। दिखने में परिवर्तन अक्सर मस्तिष्क में रक्त की हानि का कारण होता है। मस्तिष्क में ट्यूमर रक्त प्रवाह को सीमित कर या ऑप्टिक तंत्रिका पर दबाव डाल कर दृष्टि में परिवर्तन करता है जिससे मस्तिष्क कैंसर हो जाता है जो बेहद खतरनाक है।



पेट दर्द जो पीछे तक पहुँचता है : यह समस्या अग्नाशय जैसे घातक कैंसरों के निशान हो सकते है। शुरुआती दौर में अगर इस कैंसर का पता चल जाएं तो 14% जीवित रहते हैं। अग्नाशय के कैंसर अक्सर पेट में दर्द होता है जो धीरे-धीरे पीछे तक पहुँच जाता है इसलिए इस समस्या से बचने के लिए जल्द से जल्द कदम उठाने जरूरी हो जाते है। आपको बता दें अग्न्याशय आपके शरीर के एंजाइमों को विनियमित करने में मदद करता है।

मूत्राशय नियंत्रण में परिवर्तन : मूत्राशय नियंत्रण में परिवर्तन या पेशाब के साथ समस्याओं आना उम्र बढ़ने के एक सामान्य साइन होने के साथ-साथ मूत्राशय कैंसर के संकेत भी होते है। आप एक आदमी है तो प्रोस्टेट कैंसर की जाँच आवश्यक है लेकिन अगर आप महिला है तो गर्भाशय ग्रीवा या डिम्बग्रंथि के कैंसर से सतर्क रहना होगा। ऐसे किसी भी संकेत पर नियमित रूप से अपने चिकित्सक द्वारा जाँच कराना अति महत्वपूर्ण है।



अपच और मतली : अपच और पेट की ख़राबी कई लोगों को बिलकुल सामान्य समस्या लगती है लेकिन अगर आप लगातार अपच और मतली से पीड़ित है तो यह बिलकुल भी सामान्य नहीं है। अधिक समय तक अपच और मतली होने के पीछे पेट का कैंसर होने के संकेत हो सकते है इसलिए विशेष रूप से सतर्क रहें। भोजन के बाद बार-बार गंभीर तीव्र दर्द से पीड़ित होने पर डॉक्टरी सलाह लेते हुए पूर्ण चेकअप जरुर करा लें।



रात को भारी पसीना : लिम्फ नोड्स शरीर से विषाक्त पदार्थों को फिल्टर करने में मदद करता है। रात को जब आप सो जाते है तो भारी पसीना से ग्रस्त होते है और ऐसे लगातार होता है तो यह लसीका कैंसर का संभावित संकेत है। रात को पसीना होने के कई संभावित कारण हो सकते है। महिलाओं को रात में पसीना होने के पीछे दवाओं या अन्य कारणों का होना आम बात है लेकिन रात को पसीना होने से यदि वजन घटता है और बुखार होता है तो अतिरिक्त सतर्क रहने की जरूरत है।



पैर में सूजन : पैर में सूजन तरल पदार्थ निर्माण की वजह से हैं रक्त वाहिकाओं मधुमेह, एक कमजोर दिल, चोट, और संभव है कि कैंसर से क्षतिग्रस्त होकर पैरों में सूजन उत्पन्न हो रही हो। पैर में सूजन भी दर्द होने पर पर अतिरिक्त सतर्कता दिखाने के लिए फौरन डॉक्टर से चेकअप करा लें। यह पैरों की समस्या गुर्दे या गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर की वजह से होता है।

आवाज में परिवर्तन : आवाज की ध्वनि अपने गले में लंबाई और मुखर,आवाज के आकार से निर्धारित होती है। आपकी अपनी स्थायी आवाज में परिवर्तन या नुकसान होता है तो गले में कुछ तरह के कैंसर की वजह से हो सकता है। अन्य तरह के कैंसर से भी आवाज में परिवर्तन हो सकता है। फेफड़ों का कैंसर भी तंत्रिका बॉक्स नियंत्रण को नुकसान पहुंचा सकता है। अगर आप एक महिला हैं गर्भाशय के कैंसर हार्मोन के स्तर को बदल सकते हैं।



सूजन : बहुत ज्यादा फाइबर युक्त भोजन करने से आप अक्सर फुला हुआ महसूस कर सकते है यह बिलकुल समान्य है लेकिन अगर आपको अपना पेट को हर समय फुला हुआ ही प्रतीत होता है और यह कई हफ्तों तक जारी रहता है तो यह आपके शरीर को बनाए रखने के तरल पदार्थ की वजह से है। एक गर्भाशय ग्रीवा के उपर तरल पदार्थ का निर्माण कैंसर की वजह से हो सकता है।



निगलने में कठिनाई : निगलना एक सामान्य शरीर समारोह होना चाहिए लेकिन जब यह गंभीर हो जाएं या फिर उल्टी हो तो निश्चित ही आप खा नहीं सकते है और वजन कम होने लगता है। इन समस्यों से स्पस्ट है की आपको डॉक्टर में क्लीनिक में हाजरी लगानी होगी। अगर निगलने की समस्या का विस्तार हो कर कई दिनों तक जारी रहता है तो यह घेघा, गला, पेट और गले के कैंसर सहित कई अन्य मुश्किल बिमारियों को पैदा कर सकता है।



पीली आँखें और पीलिया : पीली आँखें या त्वचा का पिला होना पीलिया के रूप में जाना जाता है। पीलिया एक संकेत है जो बताता है की आपका लिवर क्षतिग्रस्त है। कई बीमारियों और शर्तों है जो आपके लिवर के नुकसान का कारण बनती है। लिवर खराब होने की पीछे हेपेटाइटिस, वसा जमा मोटापा, शराबी सिरोसिस और कैंसर कुछ प्रमुख वजह है। लीवर का नुकसान होना अत्यंत गंभीर है इसलिए चिकित्सक द्वारा इसकी जाँच जरुर कर लें।



बुखार : बुखार आपके शरीर को कमजोर बनाता है जिसके कारण प्रतिरक्षा प्रणाली बेहतर ढंग से काम नही करता। इम्यून सिस्टम कमजोर होने से कीटाणुओं और जीवाणुओं के शरीर पर हमले करने के अवसर बढ़ जाते है जब ऐसा होता है तो आप बीमार हो जाते हैं और अक्सर पाया गया है सबसे पहले आप बुखार के ही शिकार होते है। लगातार बुखार के कारण प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो जाती है इसलिए चिकित्सक के साथ जल्द से जल्द जाँच करा कर ठीक से बीमारी का निदान पहले चरण में ही कर लेना चाहिए।



घावों का ठीक ना होना : खुले घावों का सही ना होना संभावित कैंसर का ही इशारा हो सकता है। घावों से खून का रिसते रहना लेकिन घावों का जल्द ठीक ना होना यह त्वचा कैंसर या मधुमेह का संकेत होता है। आप के मुंह के अंदर नासूर घाव मिलते है जो ठीक ना हो रहे हो तो तंबाकू चबाने के बाद होने वाला मुंह का कैंसर होता है।



सिर दर्द : सिर दर्द सामान्य और रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्सा हैं। कई दिनों या हफ्ते तक सिरदर्द का होना किसी भी रूप से अच्छा कारण नही है ऐसा होना पर आपको डॉक्टर के संपर्क में आना चाहिए। बार-बार सिरदर्द होना कैंसर की संभावना की ओर इशारा होता है। ल्यूकेमिया कैंसर का जन्म लगातार बार-बार कई दिनों तक सिरदर्द के कारण ही होता है।



गांठ या सूजन : एक गांठ या सूजन आपकी त्वचा के नीचे एक ट्यूमर होने का संकेत हो सकता है। त्वचा में एक गांठ का अधिक समय तक होना शायद आपको अधिक खतरनाक ना लगें लेकिन अगर यही गांठ स्तनों, लिम्फ नोड्स या अंडकोष जैसे कोमल क्षेत्रों में हो तो इनको विशेष रूप से चिंता की बात समझनी चाहिए।



त्वचा या मोल्स का रंग बिगड़ना : आपके शरीर में नया तिल या झाई आती है या उसका मौजूदा रंग बदलता है तो चिकित्सक द्वारा उसकी जाँच आवश्यक है। यह त्वचा के कैंसर का एक क्लासिक लक्षण है। अभिनेता ह्यूग जैकमैन को त्वचा कैंसर का पता तब चला था जब उनके मेकअप आर्टिस्ट ने उनकी नाक पर नई झाई देखी थी।

मल या मूत्र में रक्त का आना : अगर आप मल या मूत्र में रक्त निकलते देखे तो फौरन डॉक्टर के पास पहुँच जायें। यह आंतरिक रूप से एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या का एक संकेत है। यकीनन कोई जरूरी नही है कि यह कैंसर हो लेकिन समस्या बार बार होने पर इससे कैंसर से ही संबोधित किया जा सकता है। मल में खून आने का एक कारण कैंसर में भी शामिल होता है। मूत्र में रक्त आने की समस्या मूत्राशय या गुर्दे के कैंसर का रूप भी धारण कर सकती है।



लगातार खांसी : खाँसी आने का अर्थ यह कतई नही है कि आप बीमार है लेकिन खांसी सप्ताह या महीनों तक रहती है तो अधिक गंभीर समस्या का एक संकेत है। यह गले, फेफड़े या थायराइड का कैंसर भी हो सकता है। ये कैंसर गले या फेफड़ों में तरल पदार्थ में जलन पैदा कर देता है इसके अतिरिक्त अगर आपको खांसी के दौरान रक्त या बाद में रक्त आता है तो जितना जल्दी हो सके डॉक्टर से मिल कर इलाज शुरू कर दें।



सांस की तकलीफ : सांस फूलना, हांफना या आपको साँस लेने के लिए प्रयास करना पड़ता है तो यह इस बात का संकेत है कि आपके शरीर को सांस में अधिक ऑक्सीजन की जरूरत है। जब आपके फेफड़े और दिल को बॉडी में साँस को पूर्ण करने के लिए ओवरटाइम करना पड़ता है इससे संचार प्रणाली क्षतिग्रस्त होने का खतरा अधिक हो जाता है इसी तरह फेफड़ों के कैंसर के रूप में संचार प्रणाली में एक कैंसर हो सकता है।



असामान्य वजन हासिल करना और कम करना : जब भी आप अपना वजन अपेक्षा से कम या ज्यादा करते है तो निश्चित रूप से आपको बधाई मिलती है लेकिन समय-समय पर भूख को अपनी इच्छा अनुसार कम या ज्यादा करना आपके लिए स्वास्थ्य हानि का कारण बन सकता है। जब आपकी बॉडी कैंसर से लड़ रही होती है तो आपके शरीर से साइटोकाइन हार्मोन पैदा होते है। साइटोकिन्स भूख को दबा कर भोजन को कम करता है जिसके कारण वजन कम होता है। कुछ इसी तरह के कारण वजन हासिल करने के दौरान पैदा होते है। महिलाओं की बात करें तो डिम्बग्रंथि कैंसर ट्यूमर होता है जो तरल पदार्थ बनाए रखने का कारण बन जाता है। अतिरिक्त तरल पदार्थ पैमाने पर अतिरिक्त पौंड दिखाई देगा जो हेल्थी स्वास्थ्य के लिए सही नही है।



थकान या कमजोरी महसूस होना : भले ही आपको आराम और नींद भरपूर मिल रही हो लेकिन फिर भी आप हर समय थकान महसूस करते है। निरंतर थकान होने के कई संभावित कारण हो सकते है। यह एनीमिया, क्रोनिक थकान सिंड्रोम,लाइम रोग या यहां तक कि कैंसर होने का संकेत भी होते है इसलिए इसको हल्के से बिलकुल नही लेना चाहिए। कैंसर विशेष रूप से ल्यूकेमिया और पेट का कैंसर होता है। यह रक्त कोशिकाओं पर हमला करता है। आपकी रक्त कोशिकायें शरीर को ऊर्जा और ऑक्सीजन प्रदान करती है। जब कैंसर इन रक्त कोशिकाओं को मारता है तो पर्याप्त ऑक्सीजन नही मिलती है जिसके कारण थकान की भावनाएं पैदा होती है।

Cancer

Comment Box

    User Opinion
    Your Name :
    E-mail :
    Comment :

Most Popular Facts

Most Popular Health Post

Most Popular Relationship Articles

Category

अनुष्का शर्मा से जुड़े सौंदर्य और स्वास्थ्य


अस्थमा


आँखों की देखभाल


आयुर्वेदिक होम टिप्स


आलिया भट्ट का डाइट प्लान


एनीमिया


एलर्जी


औरत के लिये


कद बढाने के टिप्स


किशोर


कैंसर


कैटरीना कैफ से जुड़े सौंदर्य और स्वास्थ्य टिप्स


कोल्ड


क्रॉस लेग पोजीसन में बैठना


गर्दन


गर्भपात


गर्भावस्था


गर्मियों में त्वचा की देखभाल


गर्मी


घुटनों के टिप्स


झाइयां


झुर्रियाँ


डायबिटीज


डिप्रेशन


डेंगू


तनाव


त्यौहार


त्वचा


त्वचा की देखभाल


दाँतों की देखभाल


दिमाग की याददाश्त और शक्ति को बढाने के टिप्स


दिल की बीमारी


दुल्हन


नींबू पानी फायदे


पसीने की दुर्गन्ध से छुटकारा पाने के टिप्स


पालन पोषण


पिंपल


पीरियड


पुरुषों के स्वास्थ्य के टिप्स


पेनिस


पेशेंट की कहानियां


पैरों की देखभाल


फलो के लाभ


फिट रहने के उपाय


बच्चे


बच्चों की देखभाल के टिप्स


बट का आकर बढ़ाने वाले टिप्स


बट मुँहासे के लिए टिप्स


बालों की देखभाल


बीज


बेबी


ब्रेस्ट


ब्रेस्ट हेल्थ टिप्स


महिला स्वास्थ्य के टिप्स


महीना वाइज टिप्स


मानसिक विकार


मुँहासे


मुहांसों से बचाव


मूत्र रंग


मेकअप


योग


वजन घटाने के टिप्स


वजन बढ़ाने के टिप्स


व्यायाम और योगा


सुंदरता से संबंधित टिप्स


सेक्स


सेक्स संबंधित समस्या


सेक्सी पीठ


सेलिब्रिटी हेल्थ टिप्स


सेल्युलाईट से छुटकारा पाने के लिए घरेलू उपचार


स्वाइन फ्लू


स्वाभाविक रूप से टिप्स


स्वास्थ्य और कल्याण


स्वास्थ्य संबंधित टिप्स


स्वास्थ्य A से Z


हरी चाय


होठों की देखभाल के टिप्स


होली


अदिति राव हैदरी से जुड़े सौंदर्य और स्वास्थ्य टिप्स


आलू


एसिडिटी का कारण लक्षण और इलाज


कमजोरी


करवा चौथ


कोल्ड फ्लू


गर्भवती हेल्थ


ग्लो त्वचा


घरेलू नुस्खे


घरेलू फेस पैक


जैकलिन फर्नांडीज फिटनेस सीक्रेट


टखने की चोट से जल्द ठीक करने के उपाय


डार्क सर्कल


डेंगू बुखार


ड्रिंक


त्रिकोणासन


दिशा पटानी के ब्यूटी टिप्स


नाखून


नींद


पपीते के पत्ते के फायदे


पानी


पीठ दर्द


प्रेगनेंसी डाइट


फर्टिलिटी


फर्टिलिटी संबंधी समस्या


बांझपन स्वास्थ्य समस्या


बालों का झड़ना


ब्रेकफास्ट


ब्लड शुगर


मेटाबोलिज्म


याददाश्त को बूस्ट करने वाले कुछ बेहतरीन फूड्स


वजाइना को हेल्थी रखने के टिप्स


विटामिन


विटामिन ई


विटामिन ए


विटामिन के


विटामिन डी


विटामिन बी


विटामिन सी


शुगर


सांसों की बदबू को रोकने के लिए उपाय


साइनसाइटिस


स्ट्रेच मार्क्स


स्तनपान


हस्तमैथुन


हाथों की देखभाल के टिप्स


Back to Top