अस्थमा शिकार बच्चो के हर माता पिता को पता होना चाहिए यें 6 बातें

Views:13600

भारतीय बच्चों में अस्थमा रोग एक भयंकर बीमारी का रूप लेते जा रही है एक अनुमान के अनुसार भारत में हर 12 बच्चे के बाद 1 बच्चा अस्थमा से पीड़ित है। ऐसा नही है कि अस्थमा से सिर्फ भारतीय बच्चों के स्वास्थ्य का विषय है। अगर विकसीत देश अमरीका की बात की जायें तो लगभग 11 बच्चों के बाद एक बच्चा अस्थमा से पीड़ित है। अमरीका के अरिज़ोनेंस क्षेत्र में अस्थमा एक भयंकर रोग है। इस शहर में 750,000 से अधिक लोग अस्थमा से प्रभावित है यहाँ पर बच्चों के स्वस्थ और जीवन जीने की लिए मदद करने के प्रयास में नि: शुल्क कल्याण कार्यक्रम योजनाएं चलाई जा रही है।


अस्थमा के साथ सामान्य श्वास मुश्किल है इसलिए बच्चों और माता पिता को यहाँ कुछ महत्वपूर्ण सुझाव प्रदान कर रहे है जो अस्थमा के खिलाफ जंग में और बच्चे में अस्थमा लक्षण की पहचान में आपकी मदद करेगा।






अस्थमा के सामान्य लक्षण : लगातार खाँसी, घरघराहट, सांस की तकलीफ और साँस लेने के दौरान सीटी की ध्वनि की शिकायत अस्थमा के संकेत होते है। एक अनुमान के अनुसार 80 प्रतिशत अस्थमा रोगियों को अस्थमा एलर्जी से होता है।


एक्सपर्ट मानतें है इस प्रकार की "एलर्जी अस्थमा" का पता रक्त परीक्षण के बाद ही चल पाता है इसलिए माता-पिता बच्चों का रक्त परीक्षण समय रहते ही करा ले और फिर अस्थमा के लक्षणों से बच्चे को मुक्त रखने के लिए उसे एलर्जी पर्यावरण से दूर रखें। इसके अलावा एलर्जी दवा ले। माता-पिता बचाव रोकथाम की प्रक्रिया को दैनिक दिनचर्या में शामिल करने के लिए बच्चो को मोटीवेट करें।





लम्बें समय के लिए अस्थमा पर नियंत्रण : कभी-कभी अस्थमा मरीजों के लिए खतरनाक हो सकता है पर ऐसा तब होता है जब मरीज रोकथाम उपायों के साथ लापरवाही कर जाते है। ज्यादातर मामलों में मरीज अस्थमा के लक्षण पर काबू पा लेते है।


लम्बें समय के लिए अस्थमा पर नियंत्रण पाने के लिए मरीज को नियंत्रक दवाओं के साथ-साथ उनके माता-पिता रिश्तेदारों की सकरात्मक सोच की भी बहुत जरूरत होती है। फिर चाहे मरीज का सामना हर दिन अस्थमा से हो रहा हो। बच्चे को ठंडी, गर्मी के फ्लू पकड़ने और वायुमार्ग में सूजन जैसी समस्या होने पर भी नियंत्रक दवाओं को समय पर दे और हिम्मत रखते हुए परेहज जारी रखें क्योकि माता-पिता को निराश देख बच्चा भी निराशा से घिर जाता है।





योजना : डॉक्टर की मदद से अस्थमा के निदान के लिए रोग में शामिल दवाओं और दैनिक उपचार की रूपरेखा एक योजनाबद्ध तरीके से करें और उस योजना को बच्चे के भाई बहन देखभाल करने वालों लोगो और रिश्तेदारों के साथ भी शेयर करें ताकि उस योजना को सही तरीके से लागू करने में मदद मिल सकें। इसके अलावा अस्थमा लक्षणों को भी इस योजना में शामिल करना चाहिए और उसकी रिपोर्ट समय-समय पर डॉक्टर तक पहचानी चाहिए। इन रिपोर्ट्स की मदद से डॉक्टर अस्थमा रोगी में जल्दी सुधार ला सकते है।





इनहेलर का सही प्रयोग : अक्सर दमा से पीड़ित बच्चे गलत तरीके से इनहेलर का उपयोग करते है। बस केवल सीधे मुंह में दवा का छिड़काव फेफड़ों तक एक पूरी खुराक नही पहुचाता है। फेफड़े के निचले हिस्से तक दवा पहुचाने के लिए जरूरी है इनहेलर का प्रयोग सही तरीके से किया जायें। इनहेलर के सही इस्तेमाल के लिए जरूरी है आप बच्चे के साथ खुद इनहेलर लेने की ट्रेनिंग ले और इनहेलर का सही इस्तेमाल बच्चों को सिखाएं।





गतिविधि : कुछ माता-पिता अस्थमा से ग्रस्त मरीज बच्चों को खेल से दूर भगाते हैं। अस्थमा मुद्दों की वजह से स्वास्थ में कुछ कमजोर हो सकते हैं पर उन्हें हतोत्साहित नहीं करना चाहिए। अस्थमा से ग्रस्त मरीजों के लिए बाहरी एलर्जी से लड़ाई करने में इनडोर खेल एक बेहतर विकल्प हो सकता है। व्यायाम का शौक रखने वाले व्यायाम करने से पहले 15 मिनट इनहेलर का प्रयोग कर हल्के व्यायाम कर सकते है।




मदद के लिए कॉल या सम्पर्क करें : अकसर माता-पिता अस्थमा के पहले दौरे के बाद चेकअप और उपचार में देरी करते है जिसके परिणाम स्वरुप अस्थमा को नियंत्रित करने में वक्त लगता है। चेहरा या होठों के पास की त्वचा पीली पड़ रही है बच्चा तेजी से साँस ले रहा है या त्वचा पसलियों के नीचे खींच रही है ऐसे लक्षण नजर आते है बिना देर किये डॉक्टर से सम्पर्क स्थापित करें। बच्चों को सक्रिय और स्वस्थ रखने के लिये बीच-बीच में कॉल कर डॉक्टरी सलाह लेंते रहे।

Asthma!#Kids Health Tips!#Palan Poshan

Comment Box

    User Opinion
    Your Name :
    E-mail :
    Comment :

Most Popular Facts

Most Popular Health Post

Most Popular Relationship Articles

Category

अनुष्का शर्मा से जुड़े सौंदर्य और स्वास्थ्य


अस्थमा


आँखों की देखभाल


आयुर्वेदिक होम टिप्स


आलिया भट्ट का डाइट प्लान


एनीमिया


एलर्जी


औरत के लिये


कद बढाने के टिप्स


किशोर


कैंसर


कैटरीना कैफ से जुड़े सौंदर्य और स्वास्थ्य टिप्स


कोल्ड


क्रॉस लेग पोजीसन में बैठना


गर्दन


गर्भपात


गर्भावस्था


गर्मियों में त्वचा की देखभाल


गर्मी


घुटनों के टिप्स


झाइयां


झुर्रियाँ


डायबिटीज


डिप्रेशन


डेंगू


तनाव


त्यौहार


त्वचा


त्वचा की देखभाल


दाँतों की देखभाल


दिमाग की याददाश्त और शक्ति को बढाने के टिप्स


दिल की बीमारी


दुल्हन


नींबू पानी फायदे


पसीने की दुर्गन्ध से छुटकारा पाने के टिप्स


पालन पोषण


पिंपल


पीरियड


पुरुषों के स्वास्थ्य के टिप्स


पेनिस


पेशेंट की कहानियां


पैरों की देखभाल


फलो के लाभ


फिट रहने के उपाय


बच्चे


बच्चों की देखभाल के टिप्स


बट का आकर बढ़ाने वाले टिप्स


बट मुँहासे के लिए टिप्स


बालों की देखभाल


बीज


बेबी


ब्रेस्ट


ब्रेस्ट हेल्थ टिप्स


महिला स्वास्थ्य के टिप्स


महीना वाइज टिप्स


मानसिक विकार


मुँहासे


मुहांसों से बचाव


मूत्र रंग


मेकअप


योग


वजन घटाने के टिप्स


वजन बढ़ाने के टिप्स


व्यायाम और योगा


सुंदरता से संबंधित टिप्स


सेक्स


सेक्स संबंधित समस्या


सेक्सी पीठ


सेलिब्रिटी हेल्थ टिप्स


सेल्युलाईट से छुटकारा पाने के लिए घरेलू उपचार


स्वाइन फ्लू


स्वाभाविक रूप से टिप्स


स्वास्थ्य और कल्याण


स्वास्थ्य संबंधित टिप्स


स्वास्थ्य A से Z


हरी चाय


होठों की देखभाल के टिप्स


होली


अदिति राव हैदरी से जुड़े सौंदर्य और स्वास्थ्य टिप्स


आलू


एसिडिटी का कारण लक्षण और इलाज


कमजोरी


करवा चौथ


कोल्ड फ्लू


गर्भवती हेल्थ


ग्लो त्वचा


घरेलू नुस्खे


घरेलू फेस पैक


जैकलिन फर्नांडीज फिटनेस सीक्रेट


टखने की चोट से जल्द ठीक करने के उपाय


डार्क सर्कल


डेंगू बुखार


ड्रिंक


त्रिकोणासन


दिशा पटानी के ब्यूटी टिप्स


नाखून


नींद


पपीते के पत्ते के फायदे


पानी


पीठ दर्द


प्रेगनेंसी डाइट


फर्टिलिटी


फर्टिलिटी संबंधी समस्या


बांझपन स्वास्थ्य समस्या


बालों का झड़ना


ब्रेकफास्ट


ब्लड शुगर


मेटाबोलिज्म


याददाश्त को बूस्ट करने वाले कुछ बेहतरीन फूड्स


वजाइना को हेल्थी रखने के टिप्स


विटामिन


विटामिन ई


विटामिन ए


विटामिन के


विटामिन डी


विटामिन बी


विटामिन सी


शुगर


सांसों की बदबू को रोकने के लिए उपाय


साइनसाइटिस


स्ट्रेच मार्क्स


स्तनपान


हस्तमैथुन


हाथों की देखभाल के टिप्स


Back to Top