जानें किन घरेलू उपचारों से होगी डायबिटीज कंट्रोल


Views:760

अगर आप स्ट्रेस, शारीरिक या मानसिक व्यायाम की कमी और डायबिटीज का समाना कर रहे है तो आपको अपनी अस्वस्थ लाइफस्टाइल को धन्यवाद देना चाहिए। दुनिया का एक बड़ा वर्ग डायबिटीज बिमारी से घिरता जा रहा है। डायबिटीज धीरे-धीरे समग्र स्वास्थ्य खराब करने के साथ-साथ जीवन काल को कम करने के लिए भी जाना जाता है।

डायबिटीज एक आनुवंशिक और लाइफस्टाइल से प्रभावित रोग है जिसमें ब्लड शुगर का स्तर मानव शरीर में बहुत अधिक हो जाता है। चूंकि यह एक पुरानी बीमारी है तो एक बार प्रभावित मरीजो को जीवन भर डायबिटीज विरोधी दवाओं और बचाव की प्रक्रिया को अपनाना पड़ता है। यह बहुत मुश्किल ही होता है कि डायबिटीज को दवा की मदद से पूर्ण रूप से ठीक किया जा सके।


कुछ कुदरती और आयुर्वेदिक घरेलू उपचार है जो स्वाभाविक रूप से शुगर के स्तर को नियंत्रण में रखने में मदद करते है लेकिन इन उपायों को अपनाने से पहले एक बार डायबिटीज एक्सपर्ट या इलाज कर रहे डॉक्टर से परामर्श अवश्य लें। आइयें जानतें है डायबिटीज को काबू में रखने वाले उन आयुर्वेदिक प्रक्रतिक घरेलू उपचारों के बारें में।



करेला : इंसुलिन पॉलीपेप्टाइड- पी युक्त करेला ह्य्पेर्ग्ल्यसमिया को कम करने की क्षमता रखता है। करेला ब्लड शुगर स्तर को कम करने वाले महत्वपूर्ण व आवश्यक यौगिकों में से एक है।

कैसे इस्तेमाल करे : आप करेले का उपयोग सूखी सब्जी या सप्ताह में एक बार करी के रूप में कर सकते है। करेले की खपत बढ़ाने के लिए बीज रहित स्लाइस वाली सब्जी बना कर या फिर ब्लेंडर से जूस बना कर सकते है। हर सुबह खाली पेट करेले के जूस का एक छोटा गिलास पीने से डायबिटीज रोगी को बड़ी राहत मिलती है।



मेथी : आमतौर पर भारतीय रसोई में इस्तेमाल की जाने वाली मेथी एक महान जड़ी बूटी है जिसके कई लाभ है। यह डायबिटीज को नियंत्रित ग्लूकोस टॉलरेंस स्तर में सुधार। लो ब्लड शुगर स्तर और इंसुलिन के स्राव को प्रोत्साहित करने में मदद करती है।

कैसे इस्तेमाल करे : रात भर पानी में 2 बड़े चम्मच मेथी के बीज भिगो दे। रोजाना सुबह खाली पेट मेथी बीज वाले पानी को पीने से ग्लूकोज के स्तर नीचे लाया जा सकता है। आप गर्म या ठंडे पानी या दूध के साथ मेथी बीज के पाउडर के रूप में इसका लाभ ले सकते है।



आम के पत्ते : ताजा आम के पत्ते डायबिटीज के इलाज में प्रभावी घरेलू उपाय बन सकते है।

कैसे इस्तेमाल करे : धूप में पत्तो को सुखा ले उसके बाद धो ले और पीस कर पाउडर बना लें। आप सुबह और रात में पानी के साथ इस पाउडर को ले सकते है। एक गिलास पानी में ताजा आम के पत्तों को उबाल लें और रात भर के लिए छोड़ दे और सुबह खाली पेट पानी पियों निश्चित ही डायबिटीज कण्ट्रोल के लिए यह बेहतरीन उपायों में से एक है।



आंवला : आंवला विटामिन सी के सबसे अमीर स्रोतों में से एक है और यह ब्लड में शर्करा की मात्रा को संतुलित रखने में मदद करता है।

कैसे इस्तेमाल करे : बीज निकाल कर 2-3 आंवला पीस कर उसका रस निचोड़ ले। पानी के कप में 2 बड़े चम्मच रस का मिश्रण कर दे और हर सुबह खाली पेट इसे पीना शुरू कर दे। कड़वी लौकी के रस में एक 1 बड़ा चम्मच आंवला रस मिक्स कर इसे रोजाना पीना शुरू कर दे। कच्चे आंवले के रूप में भी आप इसे खा कर डायबिटीज काबू करने का प्रयास जारी रख सकते है।



सहजन और मोरिंगा ओलीफेरा : सहजन की पत्तियों में ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित करने और ऊर्जा को बढ़ावा देने की क्षमता के रूप में जाना जाता है। इन पत्तो में एंटीऑक्सीडेंट के गुण होते है। मोरिंगा ओलीफेरा में वह पोषक तत्व होते है जो शरीर में इंसुलिन का स्राव को बढाते।

कैसे इस्तेमाल करे : मोरिंगा ओलीफेरा के पत्तो को 50 ग्राम शामिल करें इसका प्रयोग आप सिर्फ स्वाद जोड़ने के बजाय 21% तक ब्लड शुगर की वृद्धि को कम कर सकते है। आप इसे सलाद के रूप में भी ले सकते है या पालक की तरह भाप लगने के बाद।



सूरज की रोशनी : हाल के वर्षों में शोधकर्ताओं ने माना है कि सूरज की रोशनी डायबिटीज के प्रतिरोध इंसुलिन स्तर से जुडी है। अध्ययन में पाया गया कि विटामिन डी इंसुलिन के उत्पादन में भूमिका निभाता है। विटामिन डी की कमी टाइप 2 डायबिटीज विकसित करने की संभावना को बढ़ा देता है।

क्या करें : रोजाना सूरज के सामने 30 मिनट के लिए बेनकाब हो कर विटामिन डी की कमी को पूरा प्रयास करें। विटामिन डी को प्राप्त करने के लिए आप संतरे का रस, सोया दूध, पनीर, दही और अनाज ले सकते है लेकिन उनके शुगर की मात्रा चांच ले और डॉक्टरी सलाह की प्रथमिकता के बाद ही अपने कदम इन आहारो की तरफ बढ़ाये।



पानी : पानी की कमी शरीर में डायबिटीज के खतरे को बढ़ा देती है। ग्लूकोज से छुटकारा पाने के लिए गुर्दे मूत्र के रास्ते से इसे पारित करने की कोशिश करते हे लेकिन जब उनको यह नही मिलता तो वह बॉडी का पानी ले लेते है इसलिए अधिक तरल पदार्थ पीना चाहिए, यही वजह है कि प्यास लगने को डायबिटीज का मुख्य लक्षण माना जाता है। 2.5 लीटर पानी एक दिन में पीने का प्रयास करें।


Comment Box