हरी चाय की प्याली के साथ मिलेगे स्वास्थ्य लाभ


Views:9730

ग्रीन टी अर्थात् हरी चाय स्वास्थ्य विशेषज्ञों, बड़ी हस्तियों और फिल्म सितारों के बीच में आजकल सबसे पसंदीदा पेय है क्या आपने कभी ये जानने का प्रयास किया है कि हरी चाय में ऐसा क्या होता है जो हमारे स्वास्थ्य को बेहतर बनाता है।


खैर अब सोचने की जरुरत नही है क्योकि अब हम आपको बता रहे है हरी चाय में किन चीजों का मिश्रण होता है। हरी चाय में कैफीन थियोब्रोमाइन, कैल्शियम पॉलीफिनोल्स , सपोनिंस , थियोफाइलिइन विटामिन के अलावा इपिगैलोकाटेचिन गैलेट (ईजीसीजी) जैसे और भी कई स्वास्थयवर्धक समाग्री शामिल होती है। उपरोक्त दी गयी समाग्री की वजह से हरी चाय हमारे लिए काफी उपयोगी हो जाती है और जब हम हरी चाय पीते है तो व्यक्तिगत रूप से हमें कई स्वास्थ्य लाभ मिलते है। हरी चाय से मिलने वाले उन्ही लाभों में से कुछ अहम स्वास्थ्य लाभ से निचे अवगत कराया गया है।






वजन कम करना :
ये बात अब जग जाहिर हो चुकी है कि हरी चाय मोटापे पर करार प्रहार करती है। हरी चाय मेटाबालिज़्म अर्थात् आपकी चयापचय दर में वृद्धि लाती है जिसकी वजह से आपको भूख का अहसास कम होता है। हरी चाय के हर रोज दो से चार कप 70 से 80 कैलोरी बर्न कर देती है। इसके अलावा ग्रीन टी का मुख्य स्वास्थ्य लाभ यह होता है कि इसमे पाया जाने वाला एंटीऑक्सीडेंट आपकी फ़ास्ट फ़ूड और स्वस्थ्य के लिए अनुपयोगी खाद्य पदार्थ खाने की तृष्णा को शांत करता है। सुबह व्यायाम के बाद ग्रीन टी वसा जलने की प्रक्रिया में काफी तेजी ला सकता है।


कैंसर से जंग : हरी चाय में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट को सभी प्रकार के कैंसर से लड़ने में सहायता करने के लिए जाना जाता है। हरी चाय सबसे पहले धूम्रपान तम्बाकू से उत्पन्न उन अणुओं पर धावा बोलता है जो स्वस्थ कोशिकाओं को नुक्सान पहुचाते है। औरतें हरी चाय का उपयोग स्किन कैंसर, स्तन कैंसर गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर से लड़ने के लिए भी कर सकती है।





कोलेस्ट्रॉल : हरी चाय से हृदय रोग के रोकधाम में आपको पूरी मदद मिलेगी। ग्रीन टी कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है। रोजाना दो से चार कप का सेवन हृदय धमनियों व नलिका में ख़ून प्रवाह में पैदी हुई रुकावट को दूर करता है।


मधुमेह नियंत्रण : हरी चाय मधुमेह रोगियों के लिए किसी वरदान से कम नही है। ग्रीन टी में शामिल इपिगैलोकाटेचिन गैलेट (ईजीसीजी ) रक्त में शर्करा के स्तर को कम करता है और जिगर में ग्लूकोज के उत्पादन पर रोक लगाता है। हरी चाय को मधुमेह की किस्म-2 के रोगी भी ले सकते है।


प्रतिरक्षा में मजबूती : ग्रीन टी हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूती प्रदान करता है। ग्रीन टी में कई समाग्रीयो का मिलन होता जिस कारण उसमे जीवाणुरोधी गुण उत्पन्न हो जाता है जिस वजह से हम संक्रमण से होने वाली बिमारियों से बच सकते है।






बेहतर नींद :
ये बात हम सभी जानते है कि रात को सोते समय कैफीन वाली वास्तुओं का प्रयोग बिलकुल नही करना चाहिए पर हरी चाय के अन्दर ये खासियत है कि आप इसका उपयोग सोने से पहले भी कर सकते है। यह आपकी बॉडी को अच्छी से तरह से विश्राम देकर नींद की समस्या को दूर कर अच्छी और सुखद नींद के लिए प्रोत्साहित करेंगा।


उपरोक्त बताये गये स्वास्थ्य लाभों के अलावा लोग हरी चाय का प्रयोग दांतों के रोगों,पेट के रोगों,गुर्दे की पथरी और और त्वचा रोगों के साथ आंखों के नीचे सूजन कम करने व सिर दर्द के लिए भी करते है। हरी चाय के सभी लाभों का ज्ञान अभी पूर्ण नही हुआ है और सभी देशों में इसके लाभों के लेकर शोध जारी है।


Comment Box