मजबूत और स्वस्थ शुक्राणु प्राप्त करने के तरीके


Views:41590

अब अपनी शादीशुदा जिन्दगी में एक कदम आगे बढ़ते हुए एक बच्चे की योजना बना रहे है और बार-बार प्रयास करने से भी सिर्फ शुक्राणु के स्वास्थ्य में कमी की वजह से अपनी योजना को अंजाम नही दे पा रहे है तो बहुत जरूरी है की कुछ ऐसे तरीके जानने की कोशिश की जाएं जिसकी वजह से शुक्राणु मजबूत बने और आपको एक विक्की डोनर की सेवाओं को ना लेना पड़ें।



स्मार्ट तरीके से खाएं : स्पर्म को मजबूत बनाने के लिए अखरोट खाने की सिफारिश तो सेक्स डॉक्टरों द्वारा भी की जाती है क्योकि अखरोट में जस्ता होता है जो टेस्टोस्टेरोन हार्मोन प्रक्रिया में सुधार लाता है इसके आलावा अखरोट शुक्राणुओं की गतिशीलता भी बेहतर बनाने का काम करता है। जस्ता की मांग को आप अन्य केले और बादाम जैसे खाद्य पदार्थों से भी पूरा कर सकते है।


संतरे और स्ट्रॉबेरी ऐसे खाद्य पदार्थों है जो डीएनए के लिए ढाल का काम करते है। इनके सेवन से खराब हुए शुक्राणुओं से छुटकारा मिलता है और शुक्राणु को क्षतिग्रस्त होने से बचाते है। विटामिन ई से समृद्ध पालक, मक्खन जैसे भोजन शुक्राणुओं की क्वालिटी बेहतर करने के लिए प्रयोग किए जा सकते है। एक स्वस्थ शुक्राणु के लिए विटामिन डी का सेवन और तैराकी पर विशेष रूप से ध्यान देना चाहिए। इन पदार्थो को खाने के अतिरिक्त एक सेहतमंद शुक्राणु के लिए जंक फूड से दूरी बेहद जरूरी है।



जिम में पसीना बहायें : अपनी मसल्स और एब्स बनाने के लिए बहुत जरूरी है कि जिम में पसीना बहाया जाएं। जब आप कठोर कसरत करते है तो टेस्टोस्टेरोन स्तर में सुधार आता है। शुक्राणु की क्वालिटी बढाने के लिए जरूरी है कि दिनचर्या में कसरत को अहम स्थान दिया जाएं ताकि योग और कसरत आपकी जिन्दगी का अनिवार्य हिस्सा बन जायें।



धूम्रपान की आदत दूर करें : बार-बार दोहराया सुझाव हम फिर से बोल रहे है क्योकि अधिकतर लोग धूम्रपान छोड़ने के सुझाव पर ध्यान नही देते है और आप भी ऐसा कर रहे है तो आपके शुक्राणुओं का स्वास्थ्य खराब होना तय है। बीड़ी सिगरेट धुएं का हानिकारक प्रभाव शुक्राणु डीएनए पर पड़ता है जिससे शुक्राणुओं में असामान्यताएं आ जाती है। अगर आपको लगता है कि आपके कम सिगरेट सेवन का या सिगरेट पीने वाले व्यक्ति के सम्पर्क में रहने से नुकसान नही होगा तो आप गलतफहमी में है और आपको इससे छुटकारा पाने की जरूरत है। धूम्रपान शुक्राणुओं की संख्या को भी काफी तेजी से प्रभावित करता है इसलिए इससे दुरी बनाने में ही बेहतरी है।



सुरक्षित सेक्स का अभ्यास करें : क्लैमाइडिया और सूजन जैसे संक्रमण ने शुक्राणुओं की संख्या पर सीधा प्रभाव डालते है इसलिए अति आवश्यक है कि यौन संक्रमणों से अपने लिंग का बचाव किया जाएं। पेनिस को संक्रमणों से बचाने का एकमात्र तरीका सुरक्षित सेक्स करना है। हर सुंदर लड़की के साथ बिस्तर पर कूदने की जगह आप खुद पर अंकुश लगा कर रखें और हमेशा कंडोम का उपयोग करें।



अंडकोश को उच्च तापमान से बचा कर रखें : बिस्तर पर लेटे हुए गोद में अपने लैपटॉप को रखकर काम करना ,फ़िल्में देखना इंटरनेट सर्फिंग करना किसे पसंद नही है लेकिन आप यह जानकर हैरान हो जायेंगे जब आप ऐसे करते है तो अंडकोश की थैली में सीधे गर्मी स्थान्तरित हो जाती है जो आपके शुक्राणुओं को मजबूत नही रहने देते है। इसके अतिरिक्त हो सके तो गरम कार की सीट पर बैठने से परहेज करें।


उपरोक्त दिए तरीके के अतिरिक्त बहुत ज्यादा तनाव और जरूरत से अधिक बॉडी बिल्डिंग एक्सरसाइज में लिप्त होने से भी प्रजनन क्षमता एक अमूल्य संपत्ति स्पर्म को नुक्सान पहुंचता है इसलिए बचाव ही बेहतर है।


Comment Box