ब्रेस्ट में ढीलापन लाने वाली आपकी गंदी आदतें


Views:36050

ब्रेस्ट में ढीलापन आना बहुत ही आम समस्या है। स्तन में ढीलापन आने का मूलत: उम्र बढ़ने की निशानी होती है। ब्रेस्ट में ढीलापन उम्र बढ़ने का एक स्वाभाविक कारण जरुर होता है लेकिन उम्र से पहले और बढती उम्र की शुरुआत में ही स्तन को ढीले होने को किसी भी लिहाज से सही परिभाषित नही किया जा सकता है।


ढीले स्तनों को छुपाने के औरते पैडेड ब्रा या साइज से छोटी ब्रा का इस्तेमाल शुरू कर देती है लेकिन गंभीरता से कुछ कारणों और निपल की स्थिति के अनुसार मूल्यांकन कर विचार किया जाएं और अपनी लाइफस्टाइल में परिवर्तन किया जाएं तो निश्चित ही छाती दीवार को नीचे गिरने से रोका जा सकता है।



डाइटिंग : डाइटिंग करते समय हम अपने स्वास्थ्य की बेहतरी के लिए कुछ भोज्य पदार्थों से परहेज़ कर लेते है। अमूमन डाइटिंग बड़ते वजन को कम करने के लिए की जाती है लेकिन आवश्यकता से अधिक परहेज या कम समय में अधिक वजन गिराने की वजह से, स्तन के ऊतकों में अधिक सुस्ती आ जाती है जिसके वजह से ब्रेस्ट में ढीलापन की समस्या उत्पन्न हो जाती है। इसके अतिरिक्त बार-बार वजन कम ज्यादा होने से भी स्तन ढीले पड़ने लग जाते है। अगर हम वजन को नियंत्रित कर पोषक देने वाले पदार्थों की डाइटिंग ना करें तो ब्रेस्ट को सीधा तना हुआ रखने में अधिक समय तक मदद मिल सकती है।



धूम्रपान अर्थात स्मोकिंग : सिगरेट या अन्य कोई भी धूम्रपान की लत यदि आपको है तो स्तनों में ढीलापन की समस्या से आप बच नही सकती है। कभी-कभी धूम्रपान की लत भी त्वचा की सतह में रक्त की पूर्ति को कम करके त्वचा को कमजोर कर देती है जिसकी वजह से टाइट स्तन आयु से पहले ही ढीले हो जाते है और तो और स्तन के साइज में भी गिरावट आ जाती है इसलिए अगर आप अधिक समय तक स्तन टाइट और उचित साइज के रखना चाहती है तो फौरन स्मोकिंग की लत को त्याग दें।



सनस्क्रीन का त्याग : सनस्क्रीन की सुरक्षात्मक कोटिंग के बिना यूवी किरणों के सम्पर्क में चेहरा या स्तन स्किन आती है तो झुर्रियों के होने की संभावना बढ़ जाती है। इसके अलावा त्वचा के खराब होने और कोलेजन के प्रभाव का असर ब्रेस्ट के कसाव पर भी पड़ता है। स्तन को हमेशा तना हुआ और सुडौल रखने के लिए जब भी घर से बाहर निकले पर अच्छी कम्पनी का सनस्क्रीन जरुर प्रयोग करें।



गलत साइज की ब्रा पहनना : ब्रेस्ट में ढीलापन नही चाहती है तो सबसे पहले दुकानदार से अपने स्तन आकार की फिटिंग के लिए उचित साइज वाली ब्रा के बारें में पूछना बंद कर दीजिये। आप सुनिश्चित कर ले कौन सा साइज आपके लिए फिटिंग का है और फिर अपने लिए सही साईज की ब्रा का ही चुनाव करें। जिम में स्पोर्ट्स ब्रा हो या फिर पार्टी के लिए चुनी गयी खास ब्रा हो अगर स्तन को झूलने से रोकना चाहती है तो ना तो अधिक ढीली ब्रा और ना ही अधिक टाइट ब्रा का चुनाव करें इसके अतिरिक्त खास बात यह है कि रात को सोते समय ब्रा निकाल कर कर खुले वस्त्रों में ही नींद पूरी करें।



आवश्यकता से अधिक और भारी कसरत : कई अनुसंधान यह बात साबित कर चुके है की कसरत को आवश्यकता से अधिक दोहराने और कसरत की गति सही नही रखने पर स्तन कोलेजन टूटने लगते है। ब्रेस्ट साइज और आकार को युवा स्थिति में बनाएं रखने के लिए व्यायाम जरूरी है लेकिन व्यायाम सही तरीके से और कसरत के विवरण की जानकारी विशेषज्ञों के सामने या फिर सलाह से ही करें।


उपर दिए गयी आदतों के अगर छोड़ दिया जायें इसके आलावा प्रेगनेंसी के बाद उचित आहार और डॉक्टरी सलाह के साथ ब्रेस्ट फीडिंग कराई जायें तो यकीनन ब्रेस्ट में ढीलापन अधिक समय तक के लिए टाला जा सकता है।


Comment Box